Indian Army Ranks हिंदी में | Top to Bottom थल सेना रैंक

इस लेख में आपको Indian Army Ranks की सम्पूर्ण जानकारी मिलेगी| यदि आप भारत की थलसेना को ज्वाइन करके देश की सेवा करने में रूचि रखते हैं या फिर आप अपने देश की सेना के गौरवशाली सैनिकों और बहादुर जवानों के पदों के बारे में जानने में दिलचस्पी रखते हैं तो आपको यह लेख जरूर पढ़ना चाहिए|

यह लेख आपको भारतीय थल सेना के जवानों की रैंक्स जानने के साथ-साथ उनके बैज (Badge) को देख कर उन सभी रैंक्स को पहचानने में मदद करेगा|

इसके साथ में आप यह भी जान पाएंगे की कोनसा पद Indian Army Ranks में सबसे ऊपर आता है और कोनसा पद सबसे निचे होता है|

इस लेख को पढ़ने के बाद Indian Army की hierarchy से जुड़े आपके सभी प्रश्नों के जवाब मिल जायेंगे और फिर आपको कभी दुविधा नहीं होगी इंडियन आर्मी के रैंक के बारे में|

Indian Army Ranks और उनके प्रतीक चिन्ह (Insignia)

हमारी सेना दुनिया की सबसे बड़ी और शक्तिशाली सेना में से एक है| इतनी बड़ी सेना को अच्छी तरह चलाने और सँभालने के लिए हमें जाहिर तोर पर कई सारे काबिल सैनिक और कई सारे डिवीज़न और डिवीज़न को सुचारु रूप से चलाने के लिए officers.

जैसा की हर किसी बड़ी organisation में कार्य को कुशल रूप से चलाने के लिए कई सारे पद होते हैं ठीक उसी प्रकार भारतीय सेना में भी सभी सैनिकों या officers को पद और रैंक दिये जाते हैं|

भारतीय थल सेना में कुल 17 रैंक्स होती हैं जिनको ऊपर से निचे के क्रम (Top to Bottom) में निचे बताया गया है| हालाँकि की इसमें कोई दो राय नहीं की सेना की हर एक रैंक गौरवशाली है|

  1. Field Marshal
  2. General
  3. Lieutenant General
  4. Major General
  5. Brigadier
  6. Colonel
  7. Lieutenant Colonel
  8. Major
  9. Captain
  10. Lieutenant
  11. Subedar Major / Risaldar Major
  12. Subedar / Risaldar
  13. Naib Subedar / Naib Risaldar
  14. Havildar
  15. Naik
  16. Lance Naik
  17. Sepoy

इन सभी Indian Army Ranks को निचे विस्तार से बताया गया है, जिसे पढ़ने के बाद आप किसी भी आर्मी में कार्यरत सैनिक या अफसर को आसानी से पहचान पाएंगे उनके बैज देख कर

1. Field Marshal

Field Marshal Insignia प्रतीक चिन्ह

फ़ील्ड मार्शल को संक्षिप्त में FM कहा जाता है| Field Marshal एक Five-star general officer rank है जोकि भारतीय सेना में सर्वोच्च प्राप्य रैंक है|

फील्ड मार्शल General के ऊपर की रैंक है| लेकिन सेना में इस पद का कोई active role नहीं है| यह एक honorary post है| मतलब की यह कोई जरुरी नहीं है की हर एक General आगे चल कर एक Field Marshal बनेगा| यह काफी हद तक एक औपचारिक (ceremonial) या युद्धकालीन (wartime) रैंक है|

NATO rank code: OF-10

आप Field Marshal को कैसे पहचान सकते हैं?

फील्ड मार्शल के यूनिफार्म में कन्धों पर लगी पट्टी पर cross baton और sword कमल की फूल माला के साथ लगी होती है और उसके ऊपर राष्ट्रीय प्रतीक (National Emblem) लगा होता है जैसा की ऊपर की इमेज में दिखाया गया है| इस प्रतीक चिन्ह/ Insignia को देख कर आप पता लगा सकते हैं यह थल सेना के Field Marshal हैं|

इसके साथ ही इस रैंक के अफसर के कॉलर पर crimson patches के साथ पांच गोल्डन स्टार लगे होते हैं, आप निचे बताई हुए इमेज में देख सकते हैं|

Field Marshal Collar Patch

2. General / सेना प्रमुख

General Insignia प्रतीक चिन्ह

जनरल भारतीय सेना में four-star general officer rank है। यह भारतीय सेना में सर्वोच्च सक्रिय रैंक है। General रैंक लेफ्टिनेंट जनरल से ऊपर और फील्ड मार्शल के निचे की रैंक है|

पूरी सेना का केवल एक ही General होता है जिसे Commander in Chief भी कहा जाता है| जोकि पूरी थल सेना को command करता है| जनरल Army Headquarters का हेड होता है| आर्मी के अन्य जेनेरेल्स से भिन्न करने के लिए एक जनरल को four-star General या full General भी कहते हैं|

यह रैंक केवल Chief of Army Staff (COAS) और Chief of Defence Staff (CDS) को दी जाती है|

Army General की रैंक Cabinet Secretary of India के बराबर होती है जोकि IAS की सबसे highest post है|

यह भी जानें: Indian Police Ranks From (Top to Bottom)

Army General rank भारतीय नौसेना में Admiral और भारतीय वायु सेना में Air Chief Marshal के बराबर होती है।

NATO rank code: OF-9

आप Army General को कैसे पहचान सकते हैं?

आर्मी जनरल के यूनिफार्म के कन्धों पर लगी पट्टी पर crossed तलवार और डंडे के साथ में ऊपर पांच-कोने वाला स्टार और ठीक उसके ऊपर राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह होता है|

इसके साथ ही कॉलर पर crimson patches के साथ चार गोल्डन स्टार लगे होते हैं|

General Collar Patch

3. Lieutenant General

Lieutenant General Insignia प्रतीक चिन्ह

लेफ्टिनेंट जनरल भारतीय सेना में three-star जनरल ऑफिसर रैंक है। यह भारतीय सेना में दूसरी सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण रैंक है। Lieutenant General रैंक Major General से ऊपर और four-star General के निचे की रैंक है|

सेना में बहुत से Lieutenant General होते हैं | Lieutenant General की रैंक वाले ऑफिसर Army commanders, Vice Chief of the Army Staff जैसे महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किये जाते हैं| लेफ्टिनेंट जनरल seven army commands का head होता है|

Lieutenant General रैंक भारतीय नौसेना में Vice Admiral और भारतीय वायु सेना में Air Marshal के बराबर होती है।

Lieutenant General रैंक पर promote होने के लिए कम-से-कम 36 years की service पूरी करनी होती है एक commissioned officers के तोर पर|

NATO rank code: OF-8

आप Lieutenant General को कैसे पहचान सकते हैं?

लेफ्टिनेंट जनरल के वर्दी पर crossed तलवार और डंडे के साथ ऊपर में राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह होता है| इसके साथ ही कॉलर पर crimson patches के साथ तीन गोल्डन स्टार लगे होते हैं|

Lieutenant General Collar Patch

4. Major General

Major General Insignia प्रतीक चिन्ह

मेजर जनरल भारतीय सेना में two-star जनरल ऑफिसर रैंक है। यह भारतीय सेना में तीसरी सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण रैंक है। Major General रैंक Brigadier से ऊपर और Lieutenant General के निचे की रैंक है|

Major General की रैंक वाले ऑफिसर एक पुरे division को command करते हैं| इसलिए इन्हे officer division commander भी कहा जाता है| भारतीय सेना में कुल 40 डिवीजन हैं| एक division में 3 से 4 brigades होती है|

मेजर जनरल Army Headquarters के अलग-अलग directorates और staff branches में Director General पद पर नियुक्त होते हैं|

Major General रैंक भारतीय नौसेना में Rear Admiral और भारतीय वायु सेना में Air Vice Marshal के बराबर होती है।

Major General रैंक पर promote होने के लिए कम-से-कम 28 years की service पूरी करनी होती है एक commissioned officers के तोर पर|

NATO rank code: OF-7

आप Major General को कैसे पहचान सकते हैं?

मेजर जनरल के यूनिफार्म के कन्धों पर लगी पट्टी पर crossed तलवार और डंडे के साथ ऊपर में पांच-कोने वाला स्टार होता है| जैसा की Major General एक two-star रैंक है उनके कॉलर पर crimson patches के साथ दो गोल्डन स्टार लगे होते हैं|

Major General Collar Patch

5. Brigadier

Brigadier Insignia प्रतीक चिन्ह

ब्रिगेडियर भारतीय सेना में one-star जनरल ऑफिसर रैंक है। यह भारतीय सेना में चौथी सबसे बड़ी रैंक है। Brigadier, Colonel से ऊपर और Major General के निचे की रैंक है|

ब्रिगेडियर एक पूरी brigade को command करते हैं| एक brigade में 3 battalions होती है जिसमे की 3,000 troops होते हैं|

Brigadier रैंक भारतीय नौसेना में Commodore और भारतीय वायु सेना में Air Commodore के बराबर होती है।

Brigadier रैंक पर promote होने के लिए कम-से-कम 25 years की service पूरी करनी होती है एक commissioned officer के तोर पर|

NATO rank code: OF-6

आप Brigadier को कैसे पहचान सकते हैं?

ब्रिगेडियर के यूनिफार्म के कन्धों पर लगी पट्टी पर तीन five-pointed stars के साथ ऊपर में राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह होता है| इसके साथ ही कॉलर पर crimson patches के साथ एक गोल्डन स्टार होता है|

Brigadier Collar Patch

6. Colonel

Colonel Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OF-5

कर्नल भारतीय सेना में पांचवी सबसे महत्वपूर्ण रैंक है। Colonel एक battalion का commanding officer होता है जोकि पूरी battalion का नेतृत्व करता है| आम तोर पर एक battalion में 3 companies होती है|

Colonel रैंक भारतीय नौसेना में Captain और भारतीय वायु सेना में Group Captain के बराबर होती है।

Colonel रैंक पर promote होने के लिए कम-से-कम 15 years की service पूरी करनी होती है एक commissioned officer के तोर पर|

कर्नल के यूनिफार्म के कन्धों पर लगी पट्टी पर दो five-pointed stars के साथ ऊपर में राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह होता है| इसके साथ ही कॉलर पर crimson patches के साथ golden braids बने होते हैं|

Colonel Collar Patch

(Note) Selection Grade: Colonel और इसके ऊपर की सभी रैंक Selection Grade के अंतर्गत आती है| मतलब के आप का प्रमोशन selection के आधार पर होगा| अगर officer का back performance अच्छा है तो उसे चयन करके आगे की rank पर promote किया जायेगा|

Selection Grade rank के officers को पहचानने का सबसे अच्छा तरीका है की आप उनके कॉलर पर नजर डालें| सभी Selection Grade officers के यूनिफार्म के कॉलर पर crimson patches लगे होते हैं|

Colonel के निचे की सभी रैंक time-scale rank है| मतलब की एक तय समय सिमा तक सर्विस पूरी करने के बाद आपका निश्चित रूप से promotion कर दिया जाता है| हालाँकि कुछ रैंक पर promote होने के लिए साथ में परीक्षा भी पास करनी होती है|

7. Lieutenant Colonel

Lieutenant Colonel Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OF-4

लेफ्टिनेंट-कर्नल, Major से ऊपर और Colonel के निचे की रैंक है| Lieutenant Colonel एक पूरी rifle company का commanding officer होता है| एक company में 3 platoons होते हैं जिसमें कुल 120 सैनिक होते हैं|

Lieutenant Colonel रैंक पर promote होने के लिए 13 years की service पूरी करनी होती है और साथ ही Part D का exam पास करना होता है|

Lieutenant Colonel रैंक भारतीय नौसेना में Commander और भारतीय वायु सेना में Wing Commander के बराबर होती है।

लेफ्टिनेंट कर्नल की वर्दी पर एक five-pointed star के साथ ऊपर में राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह होता है| Colonel से निचे रैंक के ऑफिसर्स के यूनिफार्म के कॉलर पर crimson patches नहीं लगे होते|

8. Major

Major Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OF-3

मेजर भारतीय सेना में सातवीं सबसे महत्वपूर्ण रैंक है। Lieutenant Colonel की तरह Major rank का ऑफीसर भी एक rifle company का नेतृत्व करता है|

Major रैंक पर promote होने के लिए 6 years की service पूरी करनी होती है और साथ ही Part B का exam पास करना होता है|

Major रैंक भारतीय नौसेना में Lieutenant Commander और भारतीय वायु सेना में Squadron Leader के बराबर होती है।

मेजर रैंक के ऑफिसर के यूनिफार्म में लगी पट्टी पर राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह होता है|

9. Captain

Captain Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OF-2

कप्तान रैंक पर promote होने के लिए 2 years की commissioned service पूरी करनी होती है|

Captain रैंक भारतीय नौसेना में Lieutenant और भारतीय वायु सेना में Flight Lieutenant के बराबर होती है।

कप्तान के यूनिफार्म के कन्धों पर लगी पट्टी पर तीन five-pointed stars होते हैं|

10. Lieutenant

Lieutenant Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OF-1

यह commissioned officers की सबसे छोटी रैंक होती है और भारतीय सेना में नौवीं सबसे महत्वपूर्ण रैंक है।

लेफ्टिनेंट को Young Officer (YO) भी कहा जाता है| क्योंकि NDA और CDS exam को पास करके IMA और OTA में ट्रैंनिंग लेने के बाद cadets को पहली रैंक Lieutenant ही मिलती है|

Lieutenant रैंक भारतीय नौसेना में Sub-Lieutenant और भारतीय वायु सेना में Flying Officer के बराबर होती है।

लेफ्टिनेंट की वर्दी पर दो five-pointed stars लगे होते हैं|

11. Subedar Major / Risaldar Major   

 

Subedar Major Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OR-9

Infantry and other arms regiments में इस रैंक को प्राप्त करने वाले officer को Subedar Major (सुबेदार प्रमुख) बोला जाता है|

Cavalry and armoured regiments में इस रैंक को प्राप्त करने वाले officer को Risaldar Major (रिसालदार प्रमुख) बोला जाता है|

Subedar Major, junior commissioned officer की सबसे ऊँची रैंक है| Subedar Major एक platoon का commander होता है जोकि पूरी platoon को lead करता है| आम तौर पर एक platoon में कुल 32 soldiers होते हैं|

सुबेदार प्रमुख रैंक भारतीय नौसेना में Master Chief Petty Officer (First Class) और भारतीय वायु सेना में Master Warrant Officer के बराबर होती है।

Subedar Major के यूनिफार्म के कन्धों पर लगे badge पर लाल और पिले रंग की पट्टी (stripe) लगी होती है जिसके ऊपर राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह होता है|

12. Subedar / Risaldar

Subedar Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OR-8

Infantry and other arms units में Subedar (सुबेदार) बोला जाता है| और cavalry and armoured regiments में इस रैंक को प्राप्त करने वाले officer को Risaldar (रिसालदार) बोला जाता है|

सुबेदार रैंक भारतीय नौसेना में Master Chief Petty Officer (Second Class) और भारतीय वायु सेना में Warrant Officer के बराबर होती है।

Subedar/Risaldar के यूनिफार्म के कन्धों पर लगे badge पर लाल और पिले रंग की पट्टी (stripe) के साथ दो golden stars होते हैं|

13. Naib Subedar / Naib Risaldar

Naib Subedar Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OR-7

Infantry and other arms units में Naib Subedar बोला जाता है और cavalry and armoured regiments में इस रैंक को प्राप्त करने वाले officer को Naib Risaldar बोला जाता है|

Naib Subedar रैंक भारतीय नौसेना में Chief Petty Officer और भारतीय वायु सेना में Junior Warrant Officer के बराबर होती है।

Naib Subedar के यूनिफार्म के कन्धों पर लगे badge पर लाल और पिले रंग की पट्टी (stripe) के साथ एक golden star होता है|

14. Havildar

Havildar Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OR-6/OR-5

हवलदार Non commissioned officers श्रेणी में प्राप्त की जाने वाली सबसे highest रैंक है| Havildar सेना में एक section का नेतृत्व करता है| Section सेना की सबसे छोटी इकाई है जिसमें की कुल 10 सैनिक होते हैं|

Havaldar रैंक भारतीय नौसेना में Petty Officer और भारतीय वायु सेना में Sergeant के बराबर होती है।

हवलदार के वर्दी पर three rank chevrons (तीन धारियों वाली पट्टी) का निशान होता है जैसा की ऊपर इमेज में दिखाया गया है|

15. Naik

Naik Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OR-4

नायक के वर्दी पर two rank chevrons (दो धारियों वाली पट्टी) का निशान होता है|

Naik रैंक भारतीय नौसेना में Able Seaman और भारतीय वायु सेना में Corporal के बराबर होती है।

16. Lance Naik

Lance Naik Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OR-3

लांस नायक के वर्दी पर Single rank chevron (एक धारी वाली पट्टी) का निशान होता है|

Lance Naik रैंक भारतीय नौसेना में Leading Seaman और भारतीय वायु सेना में Leading Aircraftsman के बराबर होती है।

17. Sepoy/ सिपाही

Sepoy Insignia प्रतीक चिन्ह

NATO rank code: OR-2/OR-1

सिपाही को आम भाषा में हम जवान (Soldiers) भी बोलते हैं

एक सिपाही के यूनिफार्म के कन्धों पर लगे badge पर किसी भी तरह का कोई Insignia (प्रतीक चिन्ह) नहीं होता केवल एक प्लेन पट्टी होती है|

Sepoy रैंक भारतीय नौसेना में Seaman और भारतीय वायु सेना में Aircraftsman के बराबर होती है।

भले ही सिपाही Indian Army Ranks की वरीयता में सबसे छोटी रैंक है पर वीरता में किसी भी रैंक से कम नहीं है|

 

Indian Army Rank Structure

ऊपर में बताये भारतीय थलसेना के सभी 17 रैंकों को तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है

1. Commissioned Officers/ कमीशन अधिकारी

Commissioned officers को आर्मी में सभी बड़ी रैंक्स पर पोस्ट किया जाता है| यह सेना के leaders होते हैं जोकि आर्मी में प्लाटून, कंपनी, बटालियन, ब्रिगेड, डिवीजन, कोर और सेना के अन्य महत्वपूर्ण groups का नेतृत्व करते हैं|

Commissioned officers को NDA और CDS जैसी परीक्षा के माध्यम से भर्ती किया जाता है|

Commissioned officers Group “A” Service officers होते हैं जोकि IAS और IPS के बराबर होते हैं| आर्मी की यह सभी 10 रैंक्स Commissioned officers श्रेणी के अंतर्गत आती है|

  1. Field Marshal
  2. General
  3. Lieutenant General
  4. Major General
  5. Brigadier
  6. Colonel
  7. Lieutenant Colonel
  8. Major
  9. Captain
  10. Lieutenant

Commissioned officers की सबसे उच्चतम रैंक Field Marshal है और न्युंनतम रैंक Lieutenant होती है|

2. Junior Commissioned Officers (JCO)

Junior commissioned officers को non-commissioned officers से पदोन्नत (promote) किया जाता है| JCO Group “B” Gazetted officers के बराबर होते हैं| आर्मी की यह 3 रैंक्स JCO श्रेणी के अंतर्गत आती है|

  1. Subedar Major / Risaldar Major
  2. Subedar / Risaldar
  3. Naib Subedar / Naib Risaldar

3. Non-Commissioned Officers (NCO)

Non-commissioned officers को मुख्यतः Other Ranks भी कहा जाता है| Other Ranks के अंतर्गत NCO और Soldiers/ Sepoy आते हैं|

Soldiers को कुछ साल की service के बाद NCO में promote किया जाता है| आर्मी की यह 4 रैंक्स Other Ranks श्रेणी के अंतर्गत आती है|

  1. Havildar (NCO)
  2. Naik (NCO)
  3. Lance Naik (NCO)
  4. Sepoy (Soldiers)

Structure of Indian Army (भारतीय सेना की संरचना)

निचे आप भारतीय सेना की संरचना देख सकते हैं और जान पाएंगे की आर्मी कैसे काम करती है और साथ ही जान पाएंगे की उसका head (leader) कौन होता है जिसे bracket के अंदर बताया गया है|

Structure of Indian Army

भारतीय सेना में सर्वोच्च रैंक कोनसी है? (Highest Rank in Army)

भारतीय सेना की सबसे उच्चतम रैंक Field Marshal (FM) की होती है| जोकि एक औपचारिक (ceremonial) या युद्धकालीन (wartime) रैंक है|

या पोस्ट केवल उन officers को दी जाती है जिन्होंने अपने सर्विस के दौरान कुछ exceptional काम किया होता है|

अभी तक स्वतंत्र भारत में केवल दो ही officers को इस पद/ रैंक से सम्मानित किया गया है|

  1. Sam Manekshaw भारत के पहले फील्ड मार्शल थे जिनको “सैम बहादुर” के नाम से भी जाना जाता है| 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में उनकी सेवा और नेतृत्व के लिए 1 जनवरी 1973 को उन्हें Field Marshal की रैंक से सम्मानित किया गया|
  2. Kodandera M. Cariappa भारत के दूसरे फील्ड मार्शल थे| कश्मीर में हुए Indo-Pak war में lead करने के लिए इन्हे 15 January 1986 को Field Marshal की रैंक से सम्मानित किया गया|

Field Marshal कभी भी सेवानिवृत/retired नहीं होते हैं मतलब की उनकी मृत्यु तक उन्हें एक सेवारत अधिकारी माना जाता है। फील्ड मार्शल जब तक जीवित रहते हैं तब तक उनके नाम के साथ फील्ड मार्शल शब्द जुड़ा रहता है|

एक फील्ड मार्शल को four-star General का पूरा वेतन मिलता है|

Field Marshal rank भारतीय नौसेना में Admiral of the Fleet और भारतीय वायु सेना में Marshal of the Air Force के बराबर है।

Note: भारतीय सेना में General rank सबसे सर्वोच्च सक्रिय रैंक है| जोकि पुरे भारतीय थलसेना को lead करते हैं|

क्या Police Officers सेना के अधिकारियों को सलाम (Salute) करते हैं?

बहुत से लोगों के मन में यह सवाल रहता है की कौन पावर में ज्यादा बड़ा है किसके पास ज्यादा authority है|

पुलिस कर्मियों को रक्षा कर्मियों द्वारा ‘नागरिक’ माना जाता है।

ऐसा कोई rule नहीं है की एक पुलिस अधिकारी चाहे वह IAS/IPS हो किसी बड़े Army Officers को देख कर salute करे|

यह रिस्पेक्ट देने वाली बात है चाहे तो एक IAS/IPS जैसा अधिकारी या कोई भी Police officer किसी higher रैंकिंग वाले आर्मी अफसर को salute कर सकता है| और एक Army Officer भी किसी बड़े पुलिस ऑफिसर को सलूट कर सकता है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *