Supreme Court Lawyer कैसे बने? Advocate on Record [12 Steps] Guide

Supreme Court of India में एक वकील के लिए वकालत (Lawyer in Supreme Court) करना बहुत ही गर्व की बात है, और उस हर एक लॉ स्टूडेंट के लिए जो अपना करियर इसमें बनाना चाहते हैं एक सपने के साकार होने जैसा है| और होगा भी क्यों नहीं आखिर आप भारत के सबसे प्रतिष्ठित और सबसे सम्मानजनक अदालत का हिस्सा हैं|    

“Lawyer in Supreme Court कैसे बने” के इस लेख में आपको शुरुआत (12 वीं) से लेकर अंत तक, सुप्रीम कोर्ट में वकील बनने तक की पूरी प्रकिर्या जानने को मिलेगी|

तो चलिए जानते हैं आखिर इस सम्मानजनक कोर्ट का हिस्सा कैसे बने एक लॉयर के रूप में

Lawyer in Supreme Court कैसे बने [Step-by-Step] Procedure

[Step 1] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: High School (10+2)

जैसा कि और अन्य करियर विकल्पों में आपको अपना स्कूल पूरा करना पड़ता है, इसी तरह Supreme Court में वकील बनने केलिए भी आपको अपना इंटरमीडिएट हाईस्कूल (12 वीं) पारित करना होगा। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हाई स्कूल में आपके पास क्या विषय थे। किसी भी साइट (Arts/Commerce/Science) से कोई भी छात्र सर्वोच्च न्यायालय (Supreme Court of India) में वकील बन सकता है।

अधिकांश छात्र सोचते हैं कि अगर मुझे सर्वोच्च न्यायालय में वकील बनना है तो मुझे अपने कक्षा में अच्छे नंबर लाने होंगे, हालाँकि अच्छे नंबर से पास होना अच्छी बात है पर यह सोचना के क्लास में सबसे ज्यादा नंबर मेरे ही होने चाहिए या मेरा percentage काफी अच्छा होना चाहिए तभी में सुप्रीम कोर्ट में एक वकील बन सकता हूँ|  यह महज एक आम गलतफहमी है जोकि बहोत से छात्रों को होती है,सही guidance न मिलने से| हां, प्रतिशत के लिए मानदंड हैं, जिसे आपको पूरा करना पड़ेगा|

45% कई लॉ विश्वविद्यालयों द्वारा कमसे कम निर्धारित प्रतिशत है। इसलिए आपको लॉ स्कूल में प्रवेश पाने के लिए अपने माध्यमिक विद्यालय में कम से कम 45% सुरक्षित करना होगा।

हालांकि, अलग-अलग कॉलेजों के अनुसार  प्रतिशत / डिवीजन की तय वैल्यू भी अलग-अलग हो सकती है, यह आप पर निर्भर करता है के आप कोनसे लॉ कॉलेज में एडमिशन लेने जा रहें हैं| 

जानिए इंडिया के सबसे अच्छे लॉ कॉलेजेस कौन-कौन से हैं (Topmost law Colleges in India)

[Step 2] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: प्रवेश परीक्षा

भारत के बेहतरीन लॉ कॉलेजेस और स्कूलों में प्रवेश पाने के लिए आपको प्रवेश परीक्षा के लिए तैयार रहना पड़ेगा।

CLAT (Common Law Admission Test) स्टूडेंट्स के बीच सबसे लोकप्रिय प्रवेश परीक्षा है। इसलिए यदि आपका लक्ष्य वकील बनना है तो आपको भी CLAT प्रवेश परीक्षा के लिए अन्य छात्रों की तरह तैयार रहना चाहिए, क्योंकि भारत के सर्वश्रेष्ठ कानून कॉलेज सीएलएटी के माध्यम से प्रवेश लेते हैं।

सीएलएटी के अलावा, प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों द्वारा कई कानून प्रवेश परीक्षाएं भी आयोजित की जाती हैं| आप इन परीक्षाओं के लिए भी साथ के साथ तयारी कर सकते हैं। जानें LLB program में प्रवेश पाने के लिए शीर्ष प्रवेश परीक्षाएं कौनसी हैं?

हालांकि कई अच्छे निजी कॉलेज (Private law institution) छात्रों को बिना किसी प्रवेश परीक्षा के एडमिशन दे देतें हैं (Donation के जरिये )| लेकिन यह सर्वोच्च न्यायालय में वकील बनने का आपका अंतिम उपाय होना चाहिए, पहले पूर्ण समर्पण के साथ प्रवेश परीक्षाओं के लिए तैयार होना चाहिए। आपकी यह entrance exam की तैयारी भविष्य में आपके कानून कैरियर में आगे बढ़ने और सुप्रीम कोर्ट में प्रवेश करने का अवसर बनाने में आपकी मदद करेगी।

[Step 3] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: Law Degree

किसी भी भारतीय अदालत (जिला न्यायालय, उच्च न्यायालय, सुप्रीम कोर्ट) में वकील बनने के लिए आपके पास LLB (Bachelor of Laws) की डिग्री होनी चाहिए| और जिस विश्वविद्यालय से आप LLB करेंगे वह Bar Council Of India द्वारा मान्यता प्राप्त होना चाहिए|

किसी भी कानूनी और कानून से संबंधित छेत्र में करियर बनाने के लिए कानून में स्नातक की डिग्री अनिवार्य है। एक वकील के रूप में भारत के सुप्रीम कोर्ट में पद धारण करने का सपना हासिल करने की दिशा में यह आपका पहला कदम होगा। 

यह भी पढ़ें: 

वकील बनने के दो अलग-अलग मार्ग हैं, एक 5 साल एलएलबी एकीकृत कार्यक्रम (Integrated LLB program), दूसरा 3 साल एलएलबी कार्यक्रम है। यह जानने के लिए यहां क्लिक करें कि 3 साल के एलएलबी कार्यक्रम के लिए कौन से छात्र eligible है, और कैरियर विकल्प के रूप में एक लॉयर बनना कितना सही है, इन सभी के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी प्राप्त करें।

[Step 4] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: Internship

आप अपने कॉलेज के दौरान, जब सेमेस्टर परीक्षाएं खतम होती है , तो आप उन  छुट्टियों के दौरान विभिन्न निजी (private law firms) और सार्वजनिक कानून फर्मों (public law firms) में इंटर्नशिप कार्यक्रम के लिए जा सकते हैं, आपको बहोत सारे ऐसे इंस्टीटूशन मिल जायेंगे जो इंटर्नशिप organise करते हैं| आम तौर पर, अधिकांश कानून छात्र 8 वें सेमेस्टर के बाद इंटर्नशिप के लिए जाते हैं (Last year of the 5 Year LLB program)

यहां आपको उन सिद्धांतों का खुलासा मिलेगा जिन्हें आपने अभी तक सिर्फ अपनी कानून की किताबों  में पढ़ा था और भी बहोत कुछ सिखने को मिलेगा जो आपको आगे फायदा पहुंचाएगा| व्यावहारिक अनुभव (Practical Experience) कैरियर के विकास के लिए हमेशा अच्छा होता है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील बनने के लिए Step 4 वैकल्पिक है (अनिवार्य नहीं) यह पूरी तरह से आपके ऊपर निर्भर करता है आपको करना है नहीं। 

[Step 5] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: Register at BAR Council

वास्तविक जीवन परिदृश्य (अदालत) में कानून के अपने अकादमिक ज्ञान (आपने जितना कुछ भी LLB में सीखा है) का अभ्यास करने के लिए आपको एक प्रमाणपत्र / पहचान पत्र की आवश्यकता है, जो सुनिश्चित करता है कि आपके पास अदालत में कानून का अभ्यास करने की क्षमता है।

भारतीय वकील अधिनियम, 1961 के अनुसार अदालत परिसर में अभ्यास के लिए प्रमाणीकरण प्राप्त करने के लिए आपको बार Bar Council of India में अपना नाम पंजीकृत कराना होगा। मतलब के 5 साल कॉलेज में पढ़ने के बाद, अगर आपको भारत के किसी भी कोर्ट में वकालत करनी है या वकील बनना चाहते हैं तो यह आपके लिए अनिवार्य है|

जानें LLB करने के बाद के करियर विकल्प

आप उस संबंधित राज्य की बार काउंसिल में अपना नाम पंजीकरण करें, जहां आप कानून का अभ्यास करना चाहते हैं।

दिल्ली की बार काउंसिल में नाम register करने की प्रक्रिया को जानें

[Step 6] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: सहायक वकील

Bar Council of India में या किसी भी संबंधित राज्य की बार काउंसिल में एक वकील के रूप में नामांकन फॉर्म भरने के बाद। आप किसी वरिष्ठ वकील के अधीन सहायक वकील (Junior Assistant) के रूप में काम कर सकते हैं, जो उच्च न्यायालय या जिला न्यायालय (Subordinate Court) में वकील है।

इस चरण में, आपको कुछ महीने या शायद वर्षों के लिए जूनियर वकील के रूप में काम करना होगा। यहां पर आप एक वरिष्ठ वकील से उन सभी आवश्यक न्यायालय प्रक्रियाओं को सीखते हैं जो आपके पूरे करियर के लिए सहायक होंगे। 

[Step 7] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: AIBE

यह वह चरण है जहाँ पहुँचने के बाद आप अपने बारे में गर्व से कह सकते हैं कि आप एक वकील हैं; लेकिन इस महत्वपूर्ण दिन के लिए, आपको AIBE (All India Bar Examination) परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी, जो कि Bar Council of India द्वारा आयोजित की जाती है।

AIBE परीक्षा से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां क्लिक करें। एआईबीई परीक्षा सफलतापूर्वक पारित करने के बाद आपको एक प्रमाण पत्र मिलेगा जो दिखाता है कि आप सुप्रीम कोर्ट को छोड़कर भारत के किसी भी अदालत में कानून का अभ्यास (वकालत) करने के लायक हैं।

आप आधिकारिक तौर पर भारत की बार काउंसिल या संबंधित राज्य बार के सदस्य बन गए हैं। और यहां से आपकी यात्रा सुप्रीम कोर्ट के वकील बनने की शुरुआत होती है|

[Step 8] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: Experience

अब आप एक वकील बनने का लक्ष्य पूरा कर चुके हैं। और इसलिए अब आप भारतीय निचली अदालत (Subordinate Court) और किसी भी राज्य के उच्च न्यायालय में कानून का अभ्यास कर सकते हैं।

कोई भी वकील जो भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय का हिस्सा बनना चाहता है, उसे न्यायालय कानून और मुकदमेबाजी में कुछ निश्चित अनुभव होना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के वकील के लिए आवेदन करने से पहले उम्मीदवार को भारतीय न्यायालय में 5 साल का अभ्यास अनुभव होना चाहिए, और वर्तमान में अभ्यास में होना चाहिए।

Trending and popular careers in Law (legal studies):

[Step 9] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: Training

भारतीय न्यायालय में 5 वर्षों के कार्य अनुभव प्राप्त करने के बाद आपको सुप्रीम कोर्ट के किसी वरिष्ठ वकील के तहत 1 साल का प्रशिक्षण (training) लेना होगा।

इसका मतलब है कि LLB की पढ़ाई पूरी करने के बाद आपको भारत सरकार के सबसे सम्मानित न्यायालय का हिस्सा बनने के लिए कम से कम छह साल (5 + 1 years) तक अध्ययन और काम करना होगा।

इस प्रशिक्षण अवधि में, आपको बेहतर समझ मिलेगी कि न्यायिक प्रणाली सबसे ऊँचे स्तर पर कैसे काम करती है। भारत के सुप्रीम कोर्ट ने मामलों, प्रक्रिया और कई अन्य उपयोगी चीजों के साथ कैसे निपटा जाये, जिन्हें आपने कभी अपने कानून कैरियर में नहीं सीखा था।

[Step 10] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: Advocate on Record

आइए पहले समझें कि Advocate on Record (A-O-R) का क्या अर्थ है?

सुप्रीम कोर्ट तीन स्तरीय न्यायिक पदानुक्रम प्रणाली (उच्च न्यायालय और जिला न्यायालय के ऊपर) में उच्चतम न्यायिक मंच है और भारत में किसी भी केस के खिलाफ अपील करने (इंसाफ मांगने) की अंतिम अदालत ।

इसलिए Supreme Court of India का हिस्सा बनने के लिए आपको कानून के क्षेत्र में अच्छा ज्ञान होना चाहिए। आपके कानूनी ज्ञान और कौशल का परीक्षण करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने A-O-R परीक्षा लेने का फैसला किया।

इसका मतलब है कि अगर कोई (जिसके पास कानून की डिग्री और वकालत में अनुभवी है) सर्वोच्च न्यायालय परिसर में कानून का अभ्यास करना चाहता है, तो उसे Advocate on Record में अपना नाम पंजीकरण करना होगा और Supreme Court BAR Association का सदस्य (member) बनना होगा|

सुप्रीम कोर्ट में प्रत्येक वकील चाहे वह जूनियर या सीनियर हो, हर किसी लॉयर को Advocate on Record की सूची में अपना नाम पंजीकृत करना होता है। सुप्रीम कोर्ट के Lawyer/ Advocate को Advocate on Record भी कहा जाता है।

और Advocate on Record बनने के लिए आपको AOR परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी। इसलिए आपको इसके लिए आवेदन करने की आवश्यकता है, लेकिन इससे पहले कि आप अपना नाम Advocate on Record (A-O-R) exam में नामांकन करें, आपको भारत के सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित कुछ मानदंडों को पूरा करना होगा।

Advocate on Record Exam में आवेदन करने केलिए Eligibility Criteria

  1. उम्मीदवार को किसी भी भारतीय अदालत में कमसे कम पांच सालों का वकालत करने का अनुभव होना चाहिए और आवेदन करते समय भी वकालत करता हुआ होना चाहिए| सुप्रीम कोर्ट के वकील बनने की कतार में आने के लिए, आपको किसी भी राज्य के उच्च न्यायालय और निचले न्यायालयों में 5 साल का मुकदमा लड़ने का experience होना ही चाहिए|
  2. आवेदक को एक साल के लिए सुप्रीम कोर्ट के किसी वरिष्ठ वकील के साथ प्रशिक्षण लेना होगा। ध्यान रखें, जिस वकील के साथ आप प्रशिक्षण ले रहे हैं, कम से कम वह पिछले 5 वर्षों से Advocate on Record होना चाहिए।

[Step 11] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: AOR Exam

यह परीक्षा आपके कौशल और ज्ञान की जांच करती है और यह सुनिश्चित करती है कि आप सुप्रीम कोर्ट के वकील बनने  के लिए सही हक़दार हैं। यह उस हर एक वकील के लिए एक अनिवार्य परीक्षा है जो Advocate on Record का ख़िताब पाना चाहते हैं और अपना नाम Supreme  Court of India के वकीलों के लिस्ट में दर्ज कराना चाहते हैं | 

AOR परीक्षाएं भारत के सुप्रीम कोर्ट की देखरेख में आयोजित की जाती हैं। और हर साल यह परीक्षा भारत के नए प्रतिभाशाली और भावुक वकीलों के लिए आयोजित की जाती है।

एओआर परीक्षा को पास करने के बाद, आप सर्वोच्च न्यायालय में अपने clients की ओर से याचिकाएं और अपील दायर करने के पात्र हो जायेंगे।

थोड़ी प्रतीक्षा और करें आपको “Lawyer in Supreme Court कैसे बने ” का एक और step को पास करना होगा; आप सर्वोच्च न्यायालय में वकील बनने से सिर्फ एक और कदम दूर हैं। 

[Step 12] Lawyer in Supreme Court कैसे बने: कार्यालय/Chamber

AOR परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद, आपको भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय भवन से 10 मील की त्रिज्या के भीतर एक ऑफिस स्पेस पंजीकृत करना होगा। और अपने कार्यालय में एक registered Clerk (लॉ क्लर्क) रखना होगा।

जानें Law Clerk कैसे बने

इन सभी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद,  सुप्रीम कोर्ट के चैंबर न्यायाधीश आपको Supreme Court Lawyer (Advocate on Record) के रूप में स्वीकार करते हैं।

 

और अंत में! अब आप भारत की सर्वोच्च न्यायालय में कानून का अभ्यास कर सकते हैं। और इसलिए अब आप अपने clients की तरफ से सर्वोच्च न्यायालय में याचिकाएं, मुकदमेबाजी (वाकालत) और अन्य कानूनी मामलों को दर्ज करने के लिए एक योग्य और सही उम्मीदवार हैं।

1 thought on “Supreme Court Lawyer कैसे बने? Advocate on Record [12 Steps] Guide”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *